Posted by on October 17, 2020 6:39 am
Tags:
Categories: Insurance

सीमा पर जारी तनाव को खत्‍म करने के लिए चीन ने रखी ये शर्त, भारत पैंगोंग से…

सीमा पर जारी तनाव को खत्‍म करने के लिए चीन ने रखी ये शर्त, भारत पैंगोंग से…

सीमा पर जारी तनाव को खत्‍म करने के लिए चीन ने रखी ये शर्त, भारत पैंगोंग से…

पूर्वी लद्दाख सीमा पर भारत-चीन तनाव खत्‍म करने को लेकर चल रही बातचीत में चीन की दाल नहीं गल रही। चीन के भारत के सामने शर्त रखी थी कि पहले भारतीय सेना पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर ऐडवांस्‍ड पोजिशंस से वापस लौट जाए। भारत ने जवाब में चीन से दो टूक कह दिया है कि अगर सेनाएं हटेंगी तो दोनों तरफ से हटेंगी। एकतरफा ऐक्‍शन नहीं होगा। द इंडियन एक्‍सप्रेस ने उच्‍चपदस्‍थ सरकारी सूत्रों के हवाले से लिखा है कि भारत ने चीनी अतिक्रमण का जवाब देने के लिए सात जगह पर लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) को पार किया है।

अगस्‍त के आखिर में भारतीय सैनिकों ने चुशूल सब-सेक्‍टर में अपने पैट्रोलिंग पॉइंट्स से आगे बढ़कर ऐडवांस्‍ड पोजिशंस पर पैठ बना ली थी। अब इस इलाके में भारत का दबदबा है। अब न केवल भारत की नजर स्‍पांगुर गैप पर है, बल्कि मोल्‍दो में चीनी टुकड़ी भी उसकी निगाह में है। इसी घटनाक्रम के बाद चीन के तेवर बदले हुए हैं। अखबार ने सूत्र के हवाले से लिखा है, “हमने सात जगह (LAC) पार की है। क्‍या आपको लगता है कि चीन अब भी बातचीत की मेज पर है?” उन्‍होंने कहा, “ताजा बातचीत में, वे (चीनी) चाहते थे कि भारत पहले दक्षिणी तट की पोजिशंस खाली कर दे। भारत ने मांग की कि एक साथ दोनों पक्ष झील के दोनों किनारों से पीछे हटें।”

भारत और चीन की कोर कमांडर स्‍तर पर अब तक सात राउंड बातचीत हो चुकी है। राजनीतिक स्‍तर पर भी चीन के रुख और हरकत को लेकर भारत सतर्क है। मॉस्‍को में दोनों ही देशों के रक्षा मंत्रियों और विदेश मंत्रियों की बातचीत के बावजूद जमीन पर चीन के तेवर नहीं बदले हैं। एक सूत्र ने द इंडियन एक्‍सप्रेस से कहा, “बीजिंग कहता है कि वह दोनों देशों की सीमा पर शांति और खुशहाली चाहता है। लेकिन भारत भी तो यही चाहता है। वे यह नहीं बताते कि उन्‍होंने इतनी संख्‍या में सैनिक वहां जमा क्‍यों किए।” उन्‍होंने कहा, “कुछ भी हो सकता है। विश्‍वास नहीं होता चीन पर। हम किसी भी तरह की चुनौती के लिए तैयार हैं।”

भारतीय सेना के एक अधिकारी ने बताया है कि अभी LAC पर हालात वैसे ही बने हुए हैं। लेकिन अब यहाँ धीरे धीरे ठंड बढ़ रही है। कई जगह पर तापमान गिरकर माइनस 10 तक पहुंच गया है और नवंबर-दिसंबर में यह माइनस 30 से माइनस 40 तक हो जाएगा। संभव है कि उस वक्त चीन अपने सैनिकों की संख्या कुछ कम करे। ईस्टर्न लद्दाख में पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे यानी फिंगर एरिया में फिंगर-4 के पास, पैंगोंग झील के दक्षिण किनारे रिजांग ला, रिचिंग ला के पास भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने हैं। इसके अलावा पीपी-17 और डेपसांग एरिया में भी दोनों देशों के सैनिक डटकर खड़े हैं। डेपसांग में चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों की पट्रोलिंग रोकी हुई है।

Published at Sat, 17 Oct 2020 05:54:55 +0000

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.